Tuesday, June 25, 2024
HomeLok Sabha Chunav 2024Lok Sabha Elections 2024: स्कूल में धमकाया और भगाया गया, ट्रांस महिला...

Lok Sabha Elections 2024: स्कूल में धमकाया और भगाया गया, ट्रांस महिला अब एक ‘चुनावी आइकन’

Lok Sabha Elections 2024: स्कूल में धमकाया और भगाया गया, ट्रांस महिला अब एक 'चुनावी आइकन'

- Advertisement -

India News HP (इंडिया न्यूज), Lok Sabha Elections 2024: हिमाचल में 4 सीटों लोकसभा सीटों और 6 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। जिसके लिए चुनाव आयोग ने अपनी तैयारियों में लगी है। आयोग ने प्रदेश की  ट्रांसजेंडर महिला माया ठाकुर को चुनावी आइकन बनाया है। उन्होंने पीटीआई के दिए इंटरव्यू में अपने जीवन से जुड़े बात करने हुए बताया कि छात्रों के दुर्व्यवहार से परेशान होकर उन्हें नौवीं कक्षा के बाद स्कूल छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा। शिमला संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत सोलन जिले के कुनिहार क्षेत्र के कोठी गांव की रहने वाली सुश्री ठाकुर ने कहा कि स्थिति इतनी गंभीर हो गई थी कि ग्रामीणों ने उनके परिवार पर “उन्हें बाहर निकालने” का दबाव बनाना शुरू कर दिया। वह शायद राज्य में तीसरे लिंग के 35 लोगों में से एकमात्र ट्रांसजेंडर थीं, जिन्होंने बोलने का साहस जुटाया।

जीवन में हर कदम पर करना पड़ा भेदभाव का सामना- माया ठाकुर

उन्होंने आगे कहा, “जब मैं अपने परिवार के सदस्यों को स्कूल में दुर्व्यवहार और इस हद तक भेदभाव के बारे में बताया था कि मुझे शौचालय का उपयोग करने की अनुमति नहीं थी, तो उन्हें लगता था कि मैं स्कूल छोड़ने का बहाना बना रही हूं। यदि मौका दिया जाए तो मैं चाहूंगी अपनी शिक्षा फिर से शुरू करू। उन्होंने दुख जताते हुए कहा कि मुझे जीवन में हर कदम पर भेदभाव का सामना करना पड़ा। शिक्षा, नौकरियां और ट्रांसजेंडरों के खिलाफ भेदभाव खत्म करना हमारे मुख्य मुद्दे हैं। ऐसे ट्रांसजेंडर हैं जो पढ़ना चाहते हैं, शिक्षक बनना चाहते हैं, वकील बनना चाहते हैं, पुलिस में शामिल होना चाहते हैं। जीवन के अन्य क्षेत्रों में उत्कृष्टता हासिल करना चाहते हैं, लेकिन जब हम नौकरियों के लिए आवेदन करते हैं, तो प्रतिक्रिया आती है बताएंगे।

Also Read- Lok Sabha Election Phase 5: जम्मू-कश्मीर के प्रमुख लोकसभा सीट और उनके उम्मीदवार

मैं एक पुरुष के रूप में पैदा हुई थी- माया ठाकुर

उन्होंने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया से बात करते हुए बताया, “मैं एक पुरुष के रूप में पैदा हुई थी, लेकिन अपनी पहचान एक महिला के रूप में की। मेरी पहचान एक ट्रांसजेंडर महिला के रूप में है। हम यूनिसेक्स हैं, किन्नर नहीं।” उन्होंने कहा कि उत्तर की तुलना में दक्षिण भारत में स्थिति अभी भी बेहतर है और ट्रांसजेंडरों के लिए सामाजिक स्वीकार्यता के लिए जागरूकता फैलाने की जरूरत है, जिन्हें अपनी पसंद का जीवन जीने का अधिकार है। उन्होंने पुलिस पर ज्यादती के खिलाफ उनकी शिकायतें दर्ज न करने का भी आरोप लगाया।

श्री ठाकुर, जो पहले दिल्ली में एक एनजीओ में काम करती थी, कनाडा जैसे देशों की तर्ज पर शैक्षिक पाठ्यक्रम में ट्रांसजेंडरों पर पाठ की वकालत करते हैं। जो भेदभाव और उत्पीड़न से मुक्त शैक्षिक वातावरण और उनके अनुरूप बाथरूम के उपयोग का अधिकार प्रदान करता है। उन्होंने कहा,’धमकी देकर या श्राप देकर पैसा वसूलने की किन्नर संस्कृति को बंद किया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा कि इसके अलावा, किन्नरों द्वारा ट्रांसजेंडरों को ले जाने या उन्हें परेशान करने की प्रथा और ऐसे कृत्यों में लिप्त लोगों पर कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए।

Also Read- Anurag Thakur: हमीरपुर में रेल का इंतजार, अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस सरकार पर साधा निशाना

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular