Sunday, June 16, 2024
Homeपॉलिटिक्सShimla Politics News: सुक्खू सरकार ने वीरभद्र गुट के दो विधायकों की...

Shimla Politics News: सुक्खू सरकार ने वीरभद्र गुट के दो विधायकों की बढ़ाई सुरक्षा , जानें क्या है मामला?

- Advertisement -

India News (इंडिया न्यूज़) Shimla Politics News: सुक्खू सरकार ने वीरभद्र गुट के दो विधायकों नंदलाल और मोहन लाल ब्राक्टा की सुरक्षा और कड़ी कर दी है। उन्हें चार प्लस सुरक्षा दी गई है, जिसमें एक हवलदार और चार सिपाही शामिल होंगे। नंदलाल सातवें वित्त आयोग के अध्यक्ष हैं और मोहन लाल बरागटा मुख्य संसदीय सचिव हैं। सरकार ने यह कदम भाजपा के किसी भी आगे के कदम से बचने के लिए उठाया है, जो सरकार गिराने की अपनी पहली कोशिश में विफल रही थी। ये दोनों विधायक सुरक्षा बढ़ाने पर सहमत हो गए हैं।

उधर, कैबिनेट बैठक के बाद डैमेज कंट्रोल करने के लिए उपमुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह से मिलने उनके आवास हॉली लॉज पहुंचे।  दरअसल, प्रतिभा सिंह भी लगातार ऐसे बयान दे रही हैं, जो सरकार की मुश्किलें बढ़ा रहे हैं और विपक्ष का हथियार बन रहे हैं। उधर, मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू से नाराजगी जता चुके लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह के नई दिल्ली में केंद्रीय भाजपा नेताओं से मुलाकात करने की बात कही जा रही है।

Also Read: Plant-Based Diet: हेल्थ के लिए बेस्ट है प्लांट बेस्ड डाइट, जानें…

यादवेंद्र गोमा चंडीगढ़ के लिए रवाना

बगावती भाषा बोल रहे विक्रमादित्य सिंह के अगले रुख पर भी सबकी निगाहें हैं। शनिवार को कैबिनेट बैठक के तुरंत बाद सुक्खू सरकार के दो भरोसेमंद मंत्री जगत सिंह नेगी और यादवेंद्र गोमा चंडीगढ़ के लिए रवाना हो गए। वे क्यों गए हैं इसका खुलासा अभी तक नहीं हुआ है।

सुक्खू के करीबी मंत्री हर्षवर्द्धन चौहान पहले से ही चंडीगढ़ में हैं। इससे आगे भी राजनीतिक उथल-पुथल मची हुई है। सूत्रों के मुताबिक, राज्य कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने मंत्रियों के साथ अलग से बैठक की, उसके बाद ही दोनों मंत्री चंडीगढ़ चले गये।

कांगड़ा के कांग्रेस विधायक भवानी पठानिया को कैबिनेट मंत्री के बराबर दर्जा मिला है।  कांगड़ा जिले के फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक भवानी सिंह पठानिया को सरकार ने शनिवार को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दे दिया। उन्हें राज्य योजना बोर्ड का उपाध्यक्ष बनाया गया है। भवानी सिंह पठानिया वीरभद्र खेमे के बड़े नेता और मंत्री सुजान सिंह पठानिया के बेटे हैं।  भवानी का दोनों गुटों से तालमेल है।

गौरतलब है कि एक दिन पहले ही वीरभद्र गुट के दूसरे नेता नंदलाल को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है और उन्हें सातवें वित्त आयोग का अध्यक्ष बनाया गया है। विधायकों को सरकार में जगह देकर अपने पक्ष में करने की कोशिश की जा रही है।

डैमेज कंट्रोल के लिए और हो सकती है ताजपोशी, लिस्ट में चार और विधायक!

डैमेज कंट्रोल के लिए सुक्खू सरकार और लोगों की ताजपोशी करने की तैयारी में है. एक दर्जन निगम-बोर्डों और स्वायत्त संस्थानों में कई अध्यक्षों और उपाध्यक्षों की नियुक्ति की जानी है। इसके लिए असंतुष्टों और पद चाहने वालों की सूची तैयार की जा रही है। इस सूची में चार विधायकों के नाम शामिल हैं. ये तीनों कांगड़ा, हमीरपुर और मंडी संसदीय क्षेत्रों से हैं।

बागी अफसोस जता रहे हैं, मुझसे संपर्क कर रहे हैं: सुक्खू

मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने मीडिया से बातचीत में कहा कि 80 फीसदी विधायक एक साथ हैं।  बाकी 20 फीसदी में छोटी-छोटी बातों को लेकर ही असंतोष है। चीजों को स्पष्ट करना मेरी जिम्मेदारी है। इसके लिए वह सभी से चर्चा कर रहे हैं।  क्रॉस वोटिंग से बीजेपी का मनोबल बढ़ा है, लेकिन ऐसी स्थिति दोबारा नहीं होने वाली है।

शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर ने अचानक क्यों छोड़ी बैठक

राज्य सचिवालय के समिट हॉल में चल रही राज्य कैबिनेट की बैठक के दौरान शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर अचानक उठे और तेजी से बाहर चले गये। चर्चा यह थी कि वह किसी बात से नाराज होकर कैबिनेट बैठक छोड़कर जा रहे थे। इस पर उपमुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री तेजी से बाहर निकले और सीढ़ियों के ऊपरी मंजिल की ओर चले गए। उन्होंने उन्हें मना लिया और वापस कैबिनेट बैठक में ले गए।

रोहित ठाकुर किसी बात पर नाराज होकर बाहर आ गए हैं। इसका कारण उनके विभागों से जुड़े कुछ एजेंडे शामिल न होना भी बताया गया। यह भी चर्चा रही कि दोनों मंत्रियों के बीच अनबन हो गई है।  मिली जानकारी के अनुसार, जगत सिंह नेगी ने भी बैठक को छोड़ दिया था।

Also Read: IMD Weather Alert: अगले 48 घंटे तक 10 राज्यों में मूसलाधार…

कैबिनेट बैठक खत्म होने के बाद बाहर निकले रोहित ठाकुर

हालांकि, बाद में कैबिनेट बैठक खत्म होने के बाद रोहित ठाकुर मुस्कुराते हुए बाहर निकले। उन्होंने कैबिनेट बैठक की जानकारी भी दी। जब उनसे पूछा गया कि क्या हुआ तो उन्होंने कहा- मेरी आंखों में कभी आंसू नहीं आते। हमेशा लालिमा रहती है। आज मेरा बेटा पहली बार हॉस्टल जा रहा था. इसलिए जब बीसीएस बैठक छोड़कर जा रहे थे तो उनसे कहा गया कि बेहतर होगा कि वह एजेंडा पूरा करके चले जाएं. इसके बाद वह वापस लौट गये।

Also Read:  Ravivar ke Upay: सूर्य देव को जल चढ़ाते समय मिला लें…

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular