Wednesday, June 19, 2024
HomePunjabDPS Pathankot: पंजाब के स्कूल में प्रिंसिपल पर भड़के छात्र, जानें क्या...

DPS Pathankot: पंजाब के स्कूल में प्रिंसिपल पर भड़के छात्र, जानें क्या है मामला?

- Advertisement -

India News (इंडिया न्यूज़),DPS Pathankot:  पंजाब के स्कूल में प्रिंसिपल पर छात्र अपना गुस्सा निकाल रहे है। दरअसल पठानकोट के प्रिंसिपल ने स्कूलों में अंग्रेजी बोलना अनिवार्य कर दिया है। जिसकी वजह से छात्र गुस्से में है। इसको लेकर तरह-तरह के मुद्दे बनाए जा रहे है। यदि छात्र स्कूलों में हिन्दी भाषा या पंजाबी भाषा में बात करत हुए पकड़े जाते है तो उनसे भारी जुर्माना भी वसूला जा सकता है। ऐसे में प्रिंसिपल परमिंदर जीत सिंह के कथित वीडियो पर विवाद छिड़ गया है।

प्रिंसिपल परमिंदर जीत सिंह ने कहा

प्रिंसिपल परमिंदर जीत सिंह ने कहा कि, “एक बात स्पष्ट है; कैम्पस की भाषा अंग्रेजी है। ऐसे में सभी छात्रों को अंग्रेजी भाषा में बात करना होगा। इस स्कूल का हर छात्र अंग्रेजी में बात करे। अब यही मुद्दा छात्रों को रास नहीं आ रहा है। जमकर प्रिंसिपल पर गुस्सा निकाल रहे है। परमिंदर जीत सिंह कहना है कि, हम अपनी मूल भाषाओं हिंदी और पंजाबी में अच्छे हैं। मुझे लगता है कि एक भाषा जिस पर हमारे छात्रों को काम करना चाहिए वो है अंग्रेजी । इसलिए अंग्रेजी भाषा में छात्रों को पढ़ाई और बोलना चाहिए।

Also Read: Snowfall: कश्मीर के गुलमर्ग और गुरेज़ में ताज़ा बर्फबारी, मौसम विभाग…

छात्रों से वसूला जा सकता है जुर्माना

“हम आने वाले दिनों में इस पर बहुत सख्त होने जा रहे हैं। हम आप पर जुर्माना लगा सकते हैं या आपके अंक काट सकते हैं। इसलिए अब समय आ गया है कि हर कोई अपने दोस्तों और शिक्षकों के साथ इस भाषा (अंग्रेजी) में बातचीत करना शुरू कर दे,” प्रिंसिपल ने कथित तौर पर चेतावनी दी।

Also Read:  Jammu and Kashmir: PM मोदी के कश्मीर दौरे से पहले…

पंजाबी भाषा कार्यकर्ता अमनदीप सिंह बैंस ने क्या कहा

पंजाबी भाषा कार्यकर्ता अमनदीप सिंह बैंस ने कहा, ”कैंपस भाषा जैसा कुछ नहीं है। बच्चों को अपनी मातृभाषा बोलने से हतोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए। सरकार को छात्रों को अंग्रेजी में बात करने की धमकी देने वाले स्कूल और उसके प्रिंसिपल के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। इस क्रिया के पीछे कोई विज्ञान नहीं है. इससे बच्चे कोई भी नई भाषा सीखने से हतोत्साहित होंगे।”

“यूनेस्को सहित कई अध्ययन हैं, जो दिखाते हैं कि जिन बच्चों के संस्थानों का माध्यम उनकी मातृभाषा है, वे उन लोगों की तुलना में अधिक सीखते हैं और उत्कृष्टता प्राप्त करते हैं जिनके पास विदेशी माध्यम है। लेकिन यहां, वे यह भी नहीं चाहते कि बच्चे आपसी बातचीत के दौरान अपनी मातृभाषा में बात करें,” बैंस ने कहा।

Also Read: Anant-Radhika Pre Wedding: नातिन पर मुकेश अंबानी ने लुटाया प्यार, दोनों…

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular